blogid : 249 postid : 993

मर्डर 4 भी जरूर आएगी भाई!

Posted On: 16 Feb, 2013 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आजकल अधिकतर फिल्मों का अंत कुछ इस अंदाज में किया जाता है कि उसमें सीक्वल बनाने की भी उम्मीद बाकी रहे. हाल ही में “रेस 2(Race 2 Songs) का भी अंत इसी तरह से किया गया जिसमें आपको अंत में हिन्दी फिल्मों की तरह हैप्पी एंडिग के साथ सीक्वल का एहसास भी मिला. कुछ ऐसा ही फैसला मर्डर 3 के निर्देशकों ने भी किया जिन्होंने फिल्म के अंत के साथ इसके सीक्वल की आस भी जगाए रखी है. वैलेंटाइन वीक के एकदम बाद रिलीज हुई इस फिल्म को दर्शकों ने हाथों-हाथ लिया. युवा वर्ग फिल्म के लिए बेहद क्रेजी नजर आया लेकिन वहीं दूसरी तरफ इस फिल्म को देखने वालों में परिवारवालों की बेहद कमी नजर आई जो इस बात को साफ करती है कि आजकल की फिल्में परिवार के साथ देखने लायक नहीं होतीं.

Read- Race 2 Story


मर्डर 3 की कहानी

रणदीप हुड्डा, अदिति राव हैदरी और सारा लारेन के सेक्स दृश्यों से भरी इस फिल्म में आपको सिर्फ मसाले के अलावा कहानी भी मिलेगी लेकिन कहानी का समापन जिस अंदाज में किया गया है वह बेहद बेकार और फिल्म के लिए खराब है. आइए जानें फिल्म की कहानी.


फिल्म की शुरुआत दक्षिण अफ्रीका के एक बेहतरीन लोकेशन के साथ होती है जहां विक्रम (रणदीप हुड्डा) एक बेहतरीन फोटोग्राफर हैं. यहां वह अपनी प्रेमिका रोशनी (अदिति राव हैदरी) के साथ रहते हैं. इसी दौरान विक्रम के पास भारत से एक शानदार ऑफर आता है जिसे विक्रम एक्सेप्ट कर मुंबई आ जाता है लेकिन मुंबई आने के बाद एक दिन अचानक उसकी प्रेमिका रोशनी गायब हो जाती है. रोशनी की गुमशुदगी की रिपोर्ट विक्रम पुलिस में करवाता है. पुलिस का पहला शक विक्रम पर ही जाता है. रोशनी के गायब होने के दुख में एक दिन विक्रम को बार में निशा (सारा लारेन) मिल जाती है. पहली ही नजर में दोनों को प्यार होता है और निशा विक्रम के घर में शिफ्ट हो जाती है.


लेकिन विक्रम के घर में निशा के साथ कई अप्रिय घटनाएं होती हैं जिनसे उसे अपने घर में किसी प्रेतात्मा के होने का अंदेशा लगता है. अब यह प्रेतात्मा है या कोई इंसान जो विक्रम के घर में आया है यह जानने के लिए तो आपको फिल्म को देखना ही पड़ेगा.

Read-
गर्लफ्रेंड से शादी की नौबत


फिल्म समीक्षा

यह फिल्म विशेष भट्ट की बतौर डायरेक्टर पहली फिल्म है. विदेश से फिल्म बनाने का गुर सीखकर आने वाले विशेष भट्ट ने एक अंग्रेजी फिल्म को देशी कहानी में मिला दिया है. लेकिन फिर भी उन्होंने फिल्म को एक टिपिकल हिन्दी फिल्म बनाने की कोशिश की है. विशेष भट्ट ने कोशिश की है कि सभी कलाकार अपना शत-प्रतिशत दें. लेकिन फिल्म के अंत में सीक्वल का पेंच छोड़ने के चक्कर में उनसे थोड़ी गलती हो गई.


अगर अभिनय की बात की जाए तो रणदीप हुड्डा के अभिनय में निरंतर निखार आ रहा है. मर्डर 3′ में अदिति राव हैदरी को अधिक दृश्य और भाव मिले हैं और इन्होंने इसका सही उपयोग भी किया है. सारा लारेन सुंदर हैं और शायद निर्देशक को उनकी सुंदरता से ही काम था.  सहयोगी कलाकारों की मौजूदगी सिर्फ दृश्य भरने के लिए थी. उनके चरित्रों पर अधिक ध्यान नहीं दिया गया है.


फिल्म की सबसे हिट बात है इसके गाने. मर्डर 3 के गाने रिलीज से पहले ही सुपरहिट हो चुके हैं. इस फिल्म का संगीत प्रीतम ने दिया है.


कुल मिलाकर वैलेंटाइन वीक के बाद अगर आप अपनी गर्लफ्रेंड के साथ कुछ पल प्यार के बिताना चाहते हैं तो यह एक शानदार फिल्म है. सिनेमा हॉल के अंधेरे में पॉपकॉर्न खाते हुए हाथों में हाथ लिए इस फिल्म को देखने का मजा बेशक दुगुना हो जाएगा लेकिन यह फिल्म परिवार के साथ देखने के लिए नहीं बनी है इसलिए अगर आप परिवार के साथ इस फिल्म को देखने का प्लान बना रहे हैं तो जल्द त्याग दें.


Rating: *** (3/5)

Post Your Comments on: अगर आपने यह फिल्म देखी है तो आप भी दें अपनी राय.


Tag: Murder 3 , Murder 3 Review in Hindi, Murder 3 , Hindi Adult Movie, Murder 3 Story in Hindi, Murder 3 ki kahaani, Murder 3 Hindi movie, हिन्दी फिल्म, फिल्म की कहानी, मर्डर 3



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

350 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Latesha के द्वारा
July 12, 2016

Hmmmm…. Not quite your day… but the IDS09 Trade Day Pecha Kucha will surely be a big su!!sescc! Frank, Sarah, Tommy… they’ll be in your line-up some day!!

संजीव के द्वारा
February 18, 2013

मर्डर 3 एक बेहद बकवास फिल्म है. इतनी बकवास फिल्म को इतनी अच्छी रेटिंग क्यूं दी है जनाब इमरान हाशमी के बबिना भट्ट कैंप बिना आलू का समोसा है


topic of the week



latest from jagran