blogid : 249 postid : 789

फिल्म समीक्षा: हेट स्टोरी (Hate Story)

Posted On: 20 Apr, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज एक सवाल हम सब के सामने खड़ा हो गया है कि क्या सच दिखाने के लिए जिस्म दिखाना जरूरी है? हाल की कुछ फिल्मों में रियलिटी दिखाने के चक्कर में निर्देशकों ने जिस तरह से बोल्ड दृश्यों को अपनी फिल्मों में ठूंसा है उसे देखते हुए यह सवाल बार-बार दिल और दिमाग को झकझोरता है. इसी कड़ी में अब एक नाम फिल्म “हेट स्टोरी” का भी जुड़ गया है.


hate storyStory of Movie: HATE STORY

फिल्म कितनी बोल्ड है इसका पता फिल्म के पोस्टर से ही चलता है जिसमें अभिनेत्री को बिना टॉप के दिखाया गया है. इस पोस्टर को देखकर ही लोगों के मन में वासना की कश्ती ने गोते लगाने शुरू कर दिए थे और फिल्म की कहानी भी कुछ इससे अलग नहीं है. यह कहानी है एक पत्रकार की जो अपना बदला लेने के लिए पत्रकार से वेश्या बन जाती है. फिल्म में मुद्दे और कहानी से ज्यादा अंग प्रदर्शन पर ध्यान दिया है जिसे पाउली दाम ने बखूबी पूरा किया है. तो चलिए एक नजर डालें इस फिल्म की कहानी और उसकी समीक्षा पर.


कलाकार: गुलशन देवैया, पाउली दाम, निखिल द्विवेदी, मोहन कपूर


निर्माता: विक्रम भट्ट


निर्देशक: विवेक अग्निहोत्री


संगीत: हर्षित सक्सेना


रेटिंग: **


हेट स्टोरी फिल्म की कहानी: HATE STORY- “A DIRTY PICTURE”

फिल्म “हेट स्टोरी” की कहानी एक पत्रकार काव्या (पाउली डाम) की है. वह एक मशहूर पत्रकार है. एक बार काव्या एक सीमेंट कंपनी के खिलाफ धोखाधड़ी व षड्यंत्र रचने का लेख छापती है, जिसकी वजह से उस सीमेंट कंपनी को बहुत नुकसान होता है जिससे गुस्से में आकर उस कंपनी का मालिक सिद्धार्थ (धनराजगिरी गुलशन देवैया) काव्या का प्रोफेशनली और सेक्सुअली शोषण करता है.


इसके बाद काव्या का जीवन जैसे बदल ही जाता है. वह अपने व्यवसाय को छोड़कर सिद्धार्थ से बदला लेने निकल पड़ती है. बदले की आग में जलते हुए वह सही और गलत के बीच की दीवार को गिरा देती है और हर सही और गलत काम करती है. इसका असर उसके परिवार और खासकर उसके दोस्त विकी (निखिल द्विवेदी) पर पड़ता है जो उससे बेहद प्रेम करता है. अपना बदला लेने के लिए काव्या एक वेश्या तक बन जाती है और उसी रास्ते से उन लोगों से बदला लेती है जिस रास्ते से उसे लोगों ने बदनाम किया था.


क्या काव्या बदला लेने में सफल होती है? बदला लेने के लिए वह क्या रास्ता अपनाती है? यही है “हेट स्टोरी” की कहानी.


hate story फिल्म समीक्षा (Movie Review of HATE STORY)


इस फिल्म के निर्देशक हैं विवेक अग्निहोत्री जिन्होंने इससे पहले “चॉकलेट” और “दे दना दन” जैसी फ्लॉप फिल्में बनाई हैं. लेकिन लगता है वह अपनी पिछली फिल्मों से कुछ सीख नहीं लेना चाहते और इसीलिए उन्होंने एक और फिल्म बना डाली जिसका कोई सिर-पैर नहीं है.


हेट स्टोरी के बारे में विवेक पहले ही कह चुके हैं कि यह बेहद बोल्ड फिल्म है और वयस्कों को ध्यान में रखकर ही यह बनाई गई है.


फिल्म में अगर अभिनय की बात करें तो पाउला दाम ने फिल्म के बोल्ड दृश्यों को अपनी सेक्स अपील से और भी गर्मागर्म बना दिए हैं. उनका अभिनय फिल्म के लिहाज से बहुत ही अच्छा है लेकिन सब जानते हैं कि ज्यादा इक्सपोज करना हिंदी सिनेमा जगत में सफलता की कोई गारंटी नहीं देता उलटा इसके साइड इफेक्ट ज्यादा होते हैं.


निखिल द्विवेदी का अभिनय जरूर काबिले तारीफ रहा है. बाकी कलाकारों ने भी सिर्फ अपना कोटा पूरा किया है. अभिनय में कुछ खास कहा नहीं जा सकता क्यूंकि इस फिल्म में कोई बड़े सितारे भी नहीं हैं.


फिल्म का संगीत भी बेहद औसत ही है. कुल मिलाकर इस फिल्म को दो ही शर्तों पर देखने जाया जा सकता है. एक कि आपके जेब में पैसे काफी ज्यादा हों जो आप संभाल नहीं पा रहे हों दूसरा अगर आप एक नई फ्लेवर की फिल्म को देखना चाहते हैं तो वर्ना इस फिल्म को टीवी या डीवीडी पर ही देखना बेहतर है.




Tags:                                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran