blogid : 249 postid : 593

फिल्म समीक्षा : जिंदगी ना मिलेगी दुबारा

Posted On: 15 Jul, 2011 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक लंबे ब्रेक के बाद ऋतिक और कैटरीना की फिल्म इस हफ्ते पर्दे पर आ रही है. ऋतिक की पिछली दो फिल्में फ्लॉप रही हैं पर कैटरीना को शायद अब और सफलता से कोई फर्क नहीं पड़ता. फिल्म ‘जिंदगी न मिलेगी दोबारा’ के जरिए सितारों ने जिंदगी में मौज-मस्ती और जीने के असली फंडे को सबके सामने लाने का प्रयास किया है. पिछले काफी समय से बॉलिवुड में मसाला फिल्मों का बोलबाला है, ऐसे में ‘जिंदगी ना मिलेगी दुबारा’ से दर्शकों को एक नया टेस्ट मिलेगा.


Zindagi Na Milegi Dobara: Movie Reviewफिल्म : जिंदगी ना मिलेगी दुबारा


मुख्य कलाकार: ऋतिक रोशन, अभय देओल, फरहान अख्तर, कैटरीना कैफ, कल्कि कोचलिन, नसीरुद्दीन शाह.


निर्देशक: जोया अख्तर


निर्माता: फरहान अख्तर, रितेश सिधवानी


संगीत: शंकर-अहसान-लॉय


फिल्म रेटिंग: ***


‘जिंदगी ना मिलेगी दुबारा’ फिल्म की कहानी


ऋतिक रोशन, कैटरीना कैफ, फरहान अख्तर और अभय देओल जैसे सितारों से भरी इस मल्टीस्टारर फिल्म का सब्जेक्ट बेहद आम है. तीन दोस्त अर्जुन(ऋतिक रोशन), इमरान (फरहान अख्तर) और कबीर(अभय देओल) एक रोड़ ट्रिप प्लान करते हैं. कबीर (अभय देओल) अपनी गर्लफ्रेंड नताशा(कल्कि कोचलिन) से सगाई करता है और फिर अपने दोस्तों के साथ स्पेन घूमने के लिए निकल जाता है. जब तीनों दोस्त कॉलेज में होते हैं तब उन्होंने सोचा होता है कि वह ऐसी एक यात्रा करेंगे लेकिन किसी वजह से उस समय वह घूमने नहीं जा पाते सो कॉलेज खत्म होने के बाद अपनी इच्छा पूरी करने वह स्पेन के लिए निकल पड़ते हैं.


कबीर (अभय देओल) और इमरान (फरहान अख्तर) तो ट्रिप के लिए मान जाते हैं लेकिन अर्जुन (ऋतिक रोशन) बिजनेस छोड़कर ट्रिप पर जाने से मना करता है लेकिन किसी तरह उसके दोस्त उसे मना ही लेते हैं. स्पेन में वह कई तरह के रोमांचक खेल खेलते हैं और अपने मन में बैठा एक बहुत पुराना डर (मौत का डर) निकालने की कोशिश करते हैं. स्पेन की यात्रा के दौरान ही उनकी मुलाकात लैला (कैटरीना कैफ) से होती है जिससे अर्जुन (ऋतिक रोशन) को प्यार हो जाता है.


फिल्म में कई ऐसे दृश्य हैं जो पल भर में आपको हंसने और पल भर में आपको रोने के लिए विवश कर देंगे. इस फिल्म में स्पेन के मशहूर ‘ला टोमेटिना’ फेस्टिवल की झलक और वहॉ के कई मशहूर जगहों को फिल्माया गया है. साथ ही फिल्म के एक गाने में अभय देओल, फरहान अख्तर और ऋतिक रोशन की आवाज ने गाने को मजेदार बना दिया है.


'जिंदगी न मिलेगी दोबारा'‘जिंदगी ना मिलेगी दुबारा’ फिल्म की समीक्षा


‘जिंदगी ना मिलेगी दुबारा’ में अभिनय बेमिसाल है. कभी भी आपको ऐसा नहीं लगेगा कि कोई ड्रामा कर रहा है. पूरी फिल्म में आप असली किरदारों को ही पाएंगे. जिन्दगी में दोस्तों की जगह, उनकी अहमियत और उनकी जरूरत को निर्देशिका जोया अख्तर ने बखूबी पर्दे पर उतारा है. फिल्म की कहानी सीधी और सिंपल होने के साथ रोमांचक भी है.


फिल्म में कई ऐसे संवाद हैं जिनसे आपके चेहरे पर मुस्कान आ जाएगी. फरहान अख्तर द्वारा लिखे गए कुछ बोल आपको जरूर ‘डेल्ही बेली’ की याद दिला देंगे. शंकर अहसान लॉय ने फिल्म के संगीत पर बहुत मेहनत की है. युवाओं को ध्यान में रखकर संगीत के साथ नया करने की कोशिश की गई है.


ऋतिक रोशन, अभय देओल और फरखान अख्तर ने बहुत ही बेहतरीन अदाकारी की है. अगर तीनों के अभिनय को देखा जाए तो ऐसा लगता ही नहीं कि वह एक्टिंग कर रहे हैं. कैटरीना कैफ ने ‘न्यूयार्क’ के बाद इस फिल्म में एक बार फिर एक बिंदास बाला का रोल निभाया है. कल्कि कोचलीन ने भी अपने रोल के साथ न्याय ही किया है. फिल्म में सुहैल सेठ और नसीरुद्दीन शाह ने भी अपने किरदारों को बखूबी निभाया है.


अगर आप एक सीधीसादी फिल्म देखना चाहते हैं तो ‘जिन्दगी ना मिलेगी दुबारा’ आपके लिए एक बेहतरीन फिल्म है. और अगर आपका कोई दोस्त दिनभर पढ़ाई और काम में ही व्यस्त होकर अपनी जिंदगी को बर्बाद कर रहा है तो उसे पकड़ कर यह फिल्म जरूर दिखाएं.




Tags:                                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

354 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jenibelle के द्वारा
July 12, 2016

Dejlige billeder Lone, bÃ¥de fra Tivolies hundedag og paraden. Jeg har aldrig været i Tivoli pÃ¥ hundedagen, men kunne rigtig godt tænke mig det en dag. Det mÃ¥ være en fornøjelse at se sÃ¥ mange forskellige skønne hunde samlet i den smukke have. Jeg er ogsÃ¥ mest til store hunde, schæferen er jo min fo.eurtkne.r:-)Du mÃ¥ ha’ en dejlig dag sammen med Rufus i hans nærmiljø

यशवन्त माथुर के द्वारा
July 15, 2011

ज़रूर देखेंगे .


topic of the week



latest from jagran