blogid : 249 postid : 546

फिल्म समीक्षा : रेडी (Movie Review : Ready)

Posted On: 3 Jun, 2011 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend


निर्माता: भूषण कुमार, किशन कुमार, रजत रवैल और सोहेल खान

निर्देशक: अनीस बज्मी

कलाकार: सलमान खान, असिन, आर्य बब्बर, परेश रावल, पुनीत इस्सर, महेश मांजरेकर

संगीत: प्रीतम

रिलीज डेट: 03 जून

रोमांटिक कॉमेडी

रेटिंग: ** दो स्टार

दबंग के बाद एक बार फिर सलमान अपने अंदाज में दर्शकों को हंसाने के लिए “रेडी” हैं. कॉमेडी, रोमांस और एक्शन के रस में डुबो कर “रेडी” एक बार फिर दर्शकों को सिनेमाघर तक खींच लाई है. पिछले काफी दिनों से अच्छी फिल्म ना लगने की वजह से दूरी बनाने वाले दर्शक अब दुबारा सिनेमाघरों में खिंचे चले गए.

कहानी

रेडी का नायक है प्रेम. वह बैंकॉक के एक अमीर भारतीय परिवार का लाडला है. उसके पिता और दोनों चाचा चाहते हैं कि प्रेम की जल्द से शादी हो जाए ताकि वह जिम्मेदार बन जाए. पंडित जी की सलाह पर प्रेम की शादी पूजा से करने का विचार किया जाता है. प्रेम और चाचा एयरपोर्ट पर पूजा को लेने जाते हैं. प्रेम को बाद में पता चलता है कि उसके घर में आई लड़की पूजा नहीं, संजना है. संजना अपने दोनों डॉन मामाओं से भाग रही है. वे उसके दो सौ करोड़ रूपए के लिए जबरन उसकी शादी कराना चाहते हैं. प्रेम संजना की मदद करता है. अपनी पत्नी में खुर्राट, कमीनी और होनहार जैसी खूबियां चाहने वाले प्रेम को संजना में यह सारी बातें मिलती हैं. संजना को हासिल करने के लिए प्रेम न सिर्फ संजना के दोनों मामाओं को सुधारता है बल्कि वह सगे भाइयों का मिलन भी करवाता है.

फिल्म की कहानी आपको “नो एंट्री” और “थैंक्यू” जैसी फिल्मों की याद दिलाएगी. फिल्म की कहानी पुरानी है पर फिल्म में सलमान ने तड़का लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है. “कैरेक्टर ढीला” जैसे गाने पहले ही दर्शकों की जुबां पर चढ़ चुके हैं. लेकिन फिल्म की कहानी में नयापन नहीं है.

अब सलमान खान से किसी बौद्धिक फिल्म की अपेक्षा करना गलत होगा. हिंदी फिल्मों के पारंपरिक दर्शकों को ध्यान में रखकर मसाले से भरपूर यह फार्मूला फिल्म बनाई गई है. रेडी में सिचुएशनल कॉमेडी है, नायक-नायिका का गीतों से सजा रोमांस है, नायक-खलनायक की मारधाड़ है और साथ में परंपराओं का खंडन एवं कटुता को परे रखकर प्रेमभाव से रहने का संदेश है.

पूरी फिल्म में आपको सिर्फ सलमान खान ही देखने को मिलेंगे. संजना के किरदार में असिन ने एक बार फिर अपने सहज अभिनय का परिचय दिया है. सहयोगी भूमिकाओं में परेश रावल, महेश मांजरेकर, अखिलेंद्र मिश्रा, मनोज जोशी, आर्य बब्बर ने सधा अभिनय किया है. निकितन धीर में हिंदी फिल्मों का एक दमदार युवा खलनायक महसूस किया जा सकता है. वांटेड और दबंग के प्रशंसकों को रेडी फिल्म जंचेगी.

मूवी में कुछ नया तो नहीं है लेकिन सलमान के चाहने वाले इस फिल्म को जरूर पसंद करेंगे और बाकी फिल्म को कोसने के लिए रेडी होंगे.

| NEXT



Tags:                                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (9 votes, average: 3.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

369 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Andre Hedgpeth के द्वारा
December 8, 2017

Hello. Just wanted to share with you the best of Europes festivals over the past year. We have visited most of these in the past year and I can assure you that they are brilliant. Find time to relish in life and attend one of these this year. Looking forward to some more interesting posts on the Marina de Bolnuevo blog (www.marinedebolnuevo.co.uk). Have a great day.

Louisa के द्वारा
July 12, 2016

Great inghtis! That’s the answer we’ve been looking for.

tanweer के द्वारा
June 8, 2011

आप लोग किस की सर्कार को सही कहे गे बीजेपी आज इतना हंगामा कर रही है मगर उसके सत्ता के टाइम में संसद भवन में कुछ आतंकवादी ने हमला किया था तब बीजेपी ने कुछ कियों नहीं किया जब ये साबित हो गया के इस हमले में पाकिस्तान का हाथ है तो बीजेपी सर्कार ने पाकिस्तान पर हमला कियों नहीं किया \’\'\’ मेरा एक सवाल है कोई बताये आतंकवाद किसे कहते हैं \’\'\’


topic of the week



latest from jagran