blogid : 249 postid : 172

रावण: मनोरम दृश्य, कमजोर कथा

Posted On: 19 Jun, 2010 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Raavan Movies Review

Raavan Movie Review

मुख्य कलाकार : अभिषेक बच्चन, ऐश्वर्या राय बच्चन, विक्रम, गोविंदा, रवि किशन, निखिल द्विवेदी, प्रियमणि

निर्देशक : मणिरत्‍‌नम

तकनीकी टीम : निर्माता- मणिरत्‍‌नम , शारदा त्रिलोक

** 1/2 ढाई स्टार

-अजय ब्रह्मात्म

मणि रत्‍‌नम की रावण निश्चित ही रामायण से प्रेरित है। अभिषेक बच्चन रावण उर्फ बीरा, ऐश्वर्या राय बच्चन रागिनी उर्फ सीता और विक्रम देव उर्फ राम की भूमिका में हैं। बाकी पात्रों में भी रामायण के चरित्रों की समानताएं रखी गई हैं।मणि रत्‍‌नम इस फिल्म के अनेक दृश्यों में रामायण के निर्णायक प्रसंग ले आते हैं। पटकथा लिखते समय ही मानो हाईलाइट तय कर दिए गए हों और फिर उन घटनाओं के इर्द-गिर्द कहानी बुनी गई हो। इसकी वजह से उन दृश्यों में तो ड्रामा दिखता है, लेकिन आगे-पीछे के दृश्य क्रम खास प्रभाव नहीं पैदा करते। मणि रत्‍‌नम ने राम, सीता और रावण की मिथकीय अवधारणा में फेरबदल नहीं किया है। उन्होंने मुख्य पात्रों के मूल्य, सिद्धांत और क्रिया-कलापों को आज के संदर्भ में अलग नजरिए से पेश किया है।
मणि रत्‍‌नम देश के शिल्पी फिल्मकार हैं। उनकी फिल्में खूबसूरत होती हैं और देश के अन देखे लोकेशन से दर्शकों का मनोरम मनोरंजन करती हैं। रावण में भी उनकी पुरानी खूबियां मौजूद हैं। हम केरल के जंगलों, मलसेज घाट और ओरछा के किले का भव्य दर्शन करते हैं। पूरी फिल्म में प्रकृति के पंचतत्वों में से एक जल विभिन्न रूपों में मौजूद है। फिल्म के सभी पात्र भीगे और गीले नजर आते हैं। नृत्य-गीत, एक्शन और इमोशन के दृश्य पानी से सराबोर हैं। कुछ दृश्यों में तो सामने बारिश हो रही है और पीछे धूप खिली हुई है। पहाड़, नदी और झरने कोहरे में डूबे हैं। प्राचीन इमारतों पर काई जमी है। मणि रत्‍‌नम इन सभी के जरिए फिल्म का भाव और वातावरण तैयार करते हैं। सब कुछ अद्भुत रूप से नयनाभिरामी है।
फिल्म के कथ्य की बात करें तो मणि रत्‍‌नम ने बीरा और देव को आमने-सामने खड़ा करने के साथ उनके बीच रागिनी को विवेक के तौर पर रखा है। रागिनी कुछ समय तक बीरा के साथ रहने और उसके पक्ष को समझने के बाद अपने पति देव के इरादों और उद्देश्यों पर सवाल उठाती है। उसे लगता है कि बीरा गलत नहीं है। सरकार के प्रतिनिधि के रूप में वह अपने पति को देखती है और इस निर्णय पर पहुंचती है कि बीरा ज्यादा मानवीय और नेक है। उसमें एक निश्छलता है। वह अपने समाज के लिए बदले की भावना से उसका अपहरण तो करता है, लेकिन उसे सिर्फ हथियार के तौर पर इस्तेमाल करता है। रागिनी के प्रति उसके मन में प्रेम जागता है, लेकिन वह मर्यादा हीन नहीं है। वह उसे छूता तक नहीं है। बीरा के चंगुल से रागिनी को देव निकाल लेता है और सीता की अग्नि परीक्षा की तरह रागिनी से पॉलीग्राफ टेस्ट की बात करता है। यहां आज की सीता यानि रागिनी बिफरती है और फिर से बीरा के पास पहुंच जाती है। रामायण की कथा का यह विस्तार दर्शक नहीं पचा पाएंगे। हालांकि आखिरकार बीरा मारा जाता है, लेकिन फिल्म का क्लाइमेक्स इस वजह से कमजोर हो जाता है।
कलाकारों में विक्रम सबसे ज्यादा प्रभावित करते हैं। सहयोगी भूमिकाओं में आए निखिल द्विवेदी, रवि किशन और प्रियमणि अपेक्षित योगदान करते हैं। रागिनी के किरदार के द्वंद्व को ऐश्वर्या राय बच्चन ने अच्छी तरह व्यक्त किया है। बीरा के रूप में अभिषेक बच्चन अधिक प्रभावित नहीं करते। वे बीरा के स्वभाव के भिन्न भावों को नहीं ला पाते। हो सकता है कि लेखक-निर्देशक ने उन्हें ऐसी ही हिदायत दी हो,लेकिन उसकी वजह से फिल्म का इंपैक्ट कमजोर हुआ है। बीरा रावण का मुख्य पात्र है और वही चरित्र और अभिनय के लिहाज से कमजोर हो गया है।


| NEXT



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 3.20 out of 5)
Loading ... Loading ...

345 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Destrey के द्वारा
July 12, 2016

It’s spooky how clever some ppl are. Thansk!

bkhandelwal के द्वारा
July 5, 2010

रावन फिल्म का नाम रख कर प्रोडूसर ने सोचा था इस नाम से कामो देश मी बेफ्कुफ़ लोगों की कमी नहीं रावण एक आदर्श भी जिसे खुद भगवन न सीकर था पैर producer ne उनके उस रूप को कहीं नहीं दिखया उल्टा ऊनका नाम रख कर उनका मजाक उड़ादिया issliye इस फिल्म koi ithas नहीं है केवल सुपर हीरो हेरोइने को लेकर जो फिल्म बने उनका का भी मजाक ही उड़ा है यह फिल्म टाइम भी पास नहीं कराती उल्टा टाइम वास्ते करती hai

kmmishra के द्वारा
June 19, 2010

यानि की हाल में बैठ कर सिर दुखाने से बेहतर हे कि घर पर ही देख लिया जाये ।

ajaykumarjha1973 के द्वारा
June 19, 2010

अजय भाई , सुना है कि फ़िल्म गतिमान नहीं है और ये भी कि शूटिंग सारी दक्षिण भारतीय प्रदेश में है मगर बोलचाल की भाषा भोजपुरिया टोन में है , और ये बात भी दर्शकों को नहीं भा रही है , सच है क्या , कुल मिला कर ये कि यदि नहीं देख पाए तो अफ़सोस नहीं होगा


topic of the week



latest from jagran