blogid : 249 postid : 156

कपड़े कितने कम

Posted On: 18 Jun, 2010 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

actress2गर्मी बढ़ रही है। गर्मी के बहाने ही सही, बॉलीवुड की हीरोइनों ने कपड़ों से परहेज करना शुरू कर दिया है। वे अब ऐसे कपड़ों को प्रिफर कर रही हैं, जिनमें शरीर ज्यादा दिखे। हॉलीवुड की अभिनेत्रियों की तर्ज पर कुछ बॉलीवुड की हीरोइनों का जोर लेग्स और क्लीवेज दिखाने पर ज्यादा होता है। मजे की बात यह है कि इन कपड़ों में हॉट लगने वाली ये हीरोइनें कहती हैं कि इन्हें पहनकर वे कूल अनुभव करती हैं।

 

अगर हम गुजरे जमाने की बात करें, तो 70 के दशक में हॉट अभिनेत्रियां मानी जाने वाली जीनत अमान और परवीन बॉबी लंबी नेकलाइन वाली ड्रेसेज पहनती थीं। उस दौर में इतने पर ही हंगामा हो जाता था, लेकिन आज की अभिनेत्रियां तो नेकलाइन के मामले में काफी आगे निकल चुकी हैं। मल्लिका शेरावत से लेकर मलाइका अरोड़ा खान आदि हीरोइनें अपने मांसल सौंदर्य का ज्यादा से ज्यादा प्रदर्शन अपने कपड़ों के बहाने कर रही हैं। टीवी शो क्वीन राखी सावंत अब आठ से नौ इंच लंबी नेकलाइन रखने लगी हैं।

 

आखिर हीरोइनों के कपड़ों में यह परिवर्तन क्यों हो रहा है

 

mallikaफैशन डिजाइनर निखिल मेहरा कहते हैं कि आज डीप नेकलाइन वाले कपड़े ज्यादा चलन में हैं। वे कहते हैं, आज की बॉलीवुड की हीरोइनें ज्यादा स्ट्रांग और बोल्ड हैं। हम लोग डीपर नेकलाइन वाले कपड़े हम उन महिलाओं की मांग पर डिजाइन करते हैं, जो अपने कुछ खास बॉडी पा‌र्ट्स जैसे शोल्डर और नेक पर फोकस करना चाहती हैं। इसके अलावा इन हीरोइनों का उद्देश्य अपने गले या कंधों में पहने गहने या एक्सेसरीज दिखाने का भी होता है।

शरीर के प्रदर्शन की इस होड़ के पीछे सिर्फ इतना सा कारण नहीं है। इससे कोई इनकार नहींकरेगा कि बॉलीवुड काफी हद तक हॉलीवुड से प्रभावित होता है। यहां की हीरोइनें भी ड्रेसअप के मामले में वहां की हीरोइनों से होड़ लेती दिख रही हैं। वे हॉलीवुड अभिनेत्रियों की तरह ज्यादा से ज्यादा फिट और सेक्सी दिखने की कोशिश कर रही हैं। डिजाइनर अनिता डोंगरे कहती हैं, पिछले साल तक बॉलीवुड की वीमन साढ़े सात इंच के नेकलाइन से संतुष्ट रहती थीं, लेकिन इस साल वे साढ़े आठ से ज्यादा की स्टाइल्स की मांग कर रही हैं। डोंगरे कहती हैं, भारतीय महिलाएं लेग्स की अपेक्षा अपनी बैक और नेक शो करने में ज्यादा दिलचस्पी दिखाती हैं। हालांकि नेकलाइन फिगर के साइज पर निर्भर करती है। ग्लैमर व‌र्ल्ड के ऑडियंस अब इस तरह के स्टाइल और ग्लैमर के प्रदर्शन को स्वीकार करने को तैयार हैं। ऐसा नहीं होता, तो ज्यादा से ज्यादा प्रदर्शन का यह चलन तेज नहीं हुआ होता।

 

पहले और अब

 

actress 1ज्यादा से ज्यादा खुले गले वाले कपड़ों का चलन हालांकि सातवें दशक की हीरोइनों में काफी था, लेकिन आज लगभग हर हीरोइन ऐसे आउटफिट पहनना चाहती है, जिससे उनका हर एसेट दिखे। दरअसल, आज की हीरोइनें हीरोज की तरह बॉडी बिल्डिंग और फिटनेस पर भी ध्यान देती हैं। बिपाशा बसु और मल्लिका शेरावत ऐसी ही हीरोइन हैं। रिया सेन और सेलिना जेटली भी अपनी फिटनेस और योगा पर ध्यान देती हैं। नब्बे के दशक में ज्यादा खुले गले के कपड़े पूजा बेदी ने पहनकर लोगों का ध्यान खींचा था।

 

इधर तो कई बॉलीवुड हीरोइनों ने इसे अपनी पहचान बना ली है। जैसे मलाइका किसी भी आयोजन में काफी खुले गले की ड्रेस पहनती हैं, जिसमें उनके शोल्डर्स भी खुले होते हैं। जांनशीन फिल्म में बिकनी पहनकर चर्चा में आई सेलिना जेटली आज तक अपनी उस छवि से नहीं छूट सकी हैं। निगार खान ने तो अपने कपड़ों में इतनी कंजूसी दिखाई कि शरीर की गोपनीयता बिल्कुल खत्म हो गई। रिया सेन का ड्रेस सेलेक्शन बहुत उम्दा है। वे नेकलाइन का खयाल करती है और पिंक और हल्के कलर को तरजीह देती हैं।

 

हॉलीवुड से बॉलीवुड में प्रवेश कर चुके इस तरह के ड्रेस सेंस को हमारे यहां के डिजाइनर भी फॉलो कर रहे हैं। दरअसल, यह शोबिज है, इस शोबिज में जो दिखता है, वही बिकता है। बॉलीवुड में दिखना पहली शर्त है। इसलिए अपनी ड्रेसेज के कारण ही सही, काम की कमी से जूझ रही हीरोइनें भी चर्चा में आ जाती हैं। बॉलीवुड में सिर्फ काम ही महत्वपूर्ण नहीं होता, चर्चा में बने रहना ज्यादा जरूरी होता है।

Source: Jagran Cinemaaza

| NEXT



Tags:               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 3.75 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

MANDEEP NEOL के द्वारा
June 20, 2010

बकवास लिखा है आप अपनी आँखे बंद कर लो आप देखना चाहते है तो वो दीखता है

Jack के द्वारा
June 18, 2010

बॉलिवुड का सीधा फंडा है कपडा जितना कम पैसा उतना ज्यादा. पैसा नही तो कम से कम अगल;ई फिल्म का चांस अतो बढ ही जाता है और वैसे भी गर्मी तो बहाना है,

    Gerrilyn के द्वारा
    July 12, 2016

    Hey, good to find soomnee who agrees with me. GMTA.


topic of the week



latest from jagran